100+ bewafa Shayari sad hindi and english





आफताब की गर्मी से दरिया का पानी ख़त्म नहीं होता,
लैला के इंकार से मजनू का जज़्बा कम नहीं होता,
फ़िराक की मुसीबत हो या यार के वस्ल की लज़्ज़त,
किसी भी हाल में अश्कों का बहना काम नहीं होता।




जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी पी के गर्म अश्क.
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े।



hamari dosti ke Chirag ko Jala Ke Rakhna Hamare Dil Koi Phool Ko Khila Ke Rakhna Hum Rahe Ya Na Rahe Hamare liye Apne dil mein thodi si jagah Rakhna

सुबहा लिखूंगा शाम लिखूंगा
हाले दिल तमाम लिखूंगा
वो कलम भी दीवानी हो जाएगी
जिससे मै अपने मेहबूब का नाम लिखूंगा



Pyar kiya badnaam ho gye,
Charche hamare sare aam ho gaye,
Jaalim ne dil us wakt toda jab ham uske pyar ke gulaam ho gye




जब भी तेरी याद आती है,तब मे अपने दिल पे हाथ रखता हूँ..क्योंकि..मुझे पता है तू कहीं नहीं मिली तो यहां जरूर मिलेगीं..!



Ek To Teri Yaadon Ka Koi Bharosa Nahin Ki kab Aati Hai Lekin Teri Yaad Jab Bhi aati hai na Tu kasam se bahut takleef Hoti Hai Mere Yaar




अब हिचकियाँ आती हैं तो पानी पी लेते हैं....!
ये वहम छोड़ दिया है कि कोई याद करता है....!!



काबिल दोस्तों का होना भी शायद तक़दीर होती है.......*
*बहुत कम लोगों के हाथों में ये लकीर होती है........*
हमेशा ऐसै व्यक्ति को संभाल के रखिये जिसनें आपको ये तीन भेंट दी हो।*
साथ*
*समय*
और
*समर्पण



हर सागर के दो किनारे होते है,
कुछ लोग जान से भी प्यारे होते है,
ये ज़रूरी नहीं हर कोई पास हो,
क्योंकी जिंदगी में.. यादों के भी सहारे होते है




एक अजीब दास्तान है मेरे अफसाने की..
मैने पल पल कोशिश उसके की पास जाने की,
किस्मत थी मेरी या साजिश थी ज़माने की,
दूर हुई मुझसे इतना जितनी उमीद थी करीब आने की.





तुम भी चाहत के समन्दर में उतर जाओगे,
खुशनुमा से किसी मंजर पे ठहर जाओगे ।
मैने यादों में तुम्हें इस तरह पिरोया है,
मै जो टूटी तो सनम तुम भी बिखर जाओगे





जब रात को आपकी याद आती है
सितारों में आपकी तस्वीर नज़र आती है
खोजती है निग़ाहें उस चेहरे को
याद में जिसकी सुबह हो जाती है !!





दूरियों की ना परवाह कीजिये,
दिल जब भी पुकारे बुला लीजिये,
कहीं दूर नहीं हैं हम आपसे,
बस अपनी पलकों को आँखों से मिला लीजिये




दिल में हो आप तो कोई और ख़ास कैसे होगा,
यादों में आपके सिवा कोई पास कैसे होगा,
हिचकियां केहती है आप याद करते हो…
पर बोलोगे नहीं तो हमें अहसास कैसे होगा ?





आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की……!!
लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं,
कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछियों को,
याद वही आते है जो उड़ जाते है…!!



Previous
Next Post »